पर्यावरण संरक्षण के रोल मॉडल थे श्रीकृष्ण, पीएम मोदी ने बताया

मथुरा(Mathura) के दीन दयाल उपाध्याय पशुचिकित्सा विज्ञानं विश्वविद्यालय और गौ अनुसन्धान संस्थान में आयोजित पशुधन आरोग्य मेले(Animal Welfare Scheme) में प्रधानमंत्री मोदी ने बुधवार को कई जन-उपयोगी कार्यक्रमों की शुरुआत की। योगी आदित्यनाथ(Yogi Adityanath) के साथ इस कार्यक्रम में शामिल हुए प्रधानमंत्री ने मथुरावासियों को आशीर्वाद देने के लिए धन्यवाद भी दिया।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जनता को सम्बोधित करते हुए कहा कि ”ब्रजभूमि ने हमेशा से ही पूरे विश्व और पूरी मानवता को प्रेरित किया है। आज पूरा विश्व पर्यावरण संरक्षण के लिए रोल मॉडल ढूंढ रहा है, लेकिन भारत के पास भगवान श्रीकृष्ण जैसा प्रेरणा स्रोत हमेशा से रहा है जिनकी कल्पना ही पर्यावरण प्रेम के बिना अधूरी है। प्रकृति, पर्यावण और पशुधन के बिना जितने अधूरे खुद हमारे आराध्य नजर आते हैं उतना ही अधूरापन हमें भारत में भी नजर आएगा।” इसके बाद कार्यक्रम में प्रधानमंत्री मोदी(PM Narendra Modi) ने पशुओं की खुरपका, मुंहपका और ब्रसलोसिस बीमारी के राष्ट्रीय टीकाकरण अभियान को शुरू किया।

कृषिपालन और पशुपालन को बताया फायदेमंद

वहीँ वे मथुरा में ‘स्वच्छ भारत सेवा’ कार्यक्रम में कचरे से प्लास्टिक अलग करने वाली महिलाओं के साथ बैठे और बात की। गौपूजन के बाद प्रधानमंत्री मोदी ने पर्यावरण और पशुपालन को लेकर कहा कि “पर्यावरण और पशुधन हमेशा से भारत के आर्थिक चिंतन का बहुत ही महत्वपूर्ण हिस्सा रहा है। यही कारण है कि चाहे स्वच्छ भारत हो, जल जीवन मिशन हो या फिर कृषि और पशुपालन को प्रोत्साहन, प्रकृति और आर्थिक विकास में संतुलन बनाकर ही हम सशक्त औऱ नए भारत के निर्माण की तरफ आगे बढ़ रहे हैं।” कृषिपालन और पशुपालन को लेकर उन्होंने कहा कि “किसानों की आय बढ़ाने में पशुपालन और अन्य व्यवसायों की भी बड़ी भूमिका है। चाहे पशुपालन, मछली पालन या मधुमक्खी पालन, इन पर किया गया निवेश, अधिक कमाता है।”

वन-यूज़ प्लास्टिक को कहा ‘नहीं’

वहीँ देश को प्लास्टिक फ्री बनाने के लिए उन्होंने सभी को वन-यूज़ प्लास्टिक का इस्तेमाल करने से मना किया। उन्होंने कहा कि “हमें 2 अक्टूबर, 2019 तक अपने घरों, कार्यालयों और एकल-उपयोग प्लास्टिक के कार्यक्षेत्र से छुटकारा पाने के लिए प्रयास करने की आवश्यकता है। मैं स्वयं सहायता समूहों, नागरिक समाज, व्यक्तियों और अन्य लोगों से इस मिशन में शामिल होने की अपील करता हूं।” इसके साथ ही उन्होंने 1059 करोड़ की प्रदेशभर की विकास परियोजनाओं का शिलान्यास भी किया। कार्यक्रम में उन्होंने राष्ट्रीय पशुरोग निवारण, देशव्यापी कृत्रिम गर्भाधान और स्वच्छता ही सेवा कार्यक्रम का भी शुभारंभ किया।

दूसरे नेता भी थे मौजूद

बुधवार को मथुरा के दीनदयाल उपाध्याय पशुचिकित्सा विज्ञानं विश्वविद्यालय और गौ अनुसन्धान संस्थान में आयोजित इस मेले में प्रधानमंत्री ने 1 जुलाई से शुरू किए गए जलशक्ति अभियान के तहत वर्षा जलसंचयन और भूजल संरक्षण को लेकर भी लोगों को जागरूक किया। इस पूरे कार्यक्रम के दौरान उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, केंद्रीय पशुपालन मंत्री गिरिराज सिंह, पशुपालन एवं डेयरी राज्यमंत्री संजीव कुमार बाल्यान, उप्र पशुधन मंत्री चौधरी लक्ष्मीनारायण, ऊर्जामंत्री श्रीकांत शर्मा, पशुधन राज्यमंत्री जयप्रकाश निषाद, सांसद हेमामालिनी, विधायक कारिंदा सिंह और विधायक पूरनप्रकाश भी मौजूद थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *