उर्मिला मातोंडकर के इस्तीफे पर यूँ आपस मे भिड़ गए दो कांग्रेसी दिग्गज

उर्मिला मांतोडकर(Urmila Mantodkar) की कांग्रेस से रुखसती के बाद पार्टी में अंतर्कलह का घमासान मच गया है। एक तरफ कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मिलिंद देवड़ा (Milind Deora) ने इस्तीफे के बाद संजय निरुपम (Sanjay Nirupam) पर निशाना साधा, तो वहीं इस इस्तीफे के लिए संजय भी देवड़ा को जिम्मेदार ठहराते दिखाई दिए। दोनों नेताओ ने ट्वीट कर एक दूसरे पर वार किया।

उर्मिला के इस्तीफे के बाद संजय ने कहा कि कांग्रेस में आत्म मंथन चल रहा है। जिनको जाना है वह छोड़कर जा सकते हैं, जो पार्टी के साथ हैं वह पार्टी में रहेंगे। उर्मिला के इस्तीफे की बात पर उन्होंने कहा कि यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि उनकी चिट्ठी को लीक कर दिया गया। यह निजता की बात थी और ऐसा किसी भी हाल में नहीं होना चाहिए था। उर्मिला की ओर से लगाए गए दो नेताओं पर आरोप की बात पर संजय ने कहा कि जिन नेताओं पर आरोप लगाए गए हैं उनके लिए मैं दावे से कहता हूं कि उन्होंने पार्टी के लिए पूरी मेहनत से काम किया है। उनको किसी भी पद पर नियुक्त नहीं किया गया है और मैं फिर उनसे अनुरोध करूंगा कि वे अपने फैसले पर विचार करें। वहीँ मिलिंद देवड़ा ने एक ट्वीट कर कहा कि जब उर्मिला ने लोकसभा चुनाव लड़ने का निर्णय लिया तो मैं उनके साथ खड़ा था। मुंबई कांग्रेस अध्यक्ष के तौर पर उस समय मैंने उनका पूरा समर्थन किया। मैं उस समय भी उनके साथ था जब उन्हें पार्टी में लाने वाले लोग ही विरोध में उतर आए थे। उन्होंने कहा कि इस पूरे घटनाक्रम के लिए उत्तरी मुंबई के कांग्रेस नेताओं को ही जिम्मेदार ठहराया जाना चाहिए।

संजय निरुपम ने मिलिंद देवड़ा पर आरोप लगाए कि कैंपेन चलाकर उन्हें हटवाने के बाद मिलिंद देवड़ा ने अपनी नियुक्ति करवाई थी। अब विधानसभा चुनाव से पहले वे पीछे हट गए हैं। दोनों के इस आपसी कलह का असर महाराष्ट्र में होने वाले विधानसभा चुनाव पर भी पड़ने की आशंका है। गौरतलब है कि कुछ दिन पहले उर्मिला मांतोडकर ने मुंबई कांग्रेस(Mumbai Congress) से इस्तीफा दे दिया था। इसकी वजह उन्होंने पार्टी में गुटबाज़ी को बताया था। उन्होंने कहा था कि पार्टी में उनकी शिकायतों पर कोई कार्यवाई नहीं की गई, बल्कि उनके शिकायती खत को मीडिया में लीक कर दिया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *